मां की ममता

बादशाह अकबर का दरबार चल रहा था , बादशाह अपनी प्रजा की समस्याओं पर सुनवाई कर रहे थे, तभी एक बहुत पेचीदा मुकदमा सामने आया।

हुआ यूं कि बादशाह अकबर के दरबार में दो महिलाएं रोती हुई पहुंची, उनके साथ में लगभग 2 या 3 साल का सुंदर सा बच्चा भी था। दोनों महिलाएं लगातार हो रही थी और साथ ही दावा कर रही थी कि बच्चा उनका है।

समस्या यह थी कि दोनों नगर के बाहर रहती थी जिस कारण उन्हें कोई नहीं जानता था। इसलिए यह बताना मुश्किल था कि उनमें से बच्चे की असली मां कौन है। अब अकबर बादशाह के सामने मुसीबत आ गई कि न्याय कैसे किया जाए और बच्चा किसको दिया जाए। इस बारे में उन्होंने एक-एक करके सभी दरबारियों की राय ली लेकिन कोई भी इस समस्या को नहीं सुलझा सका और तभी तभी बीरबल दरबार में पहुंचे। 

बादशाह अकबर की आंखों में चमक आ गई। बीरबल के आते ही अकबर ने इस समस्या के बारे में उसे बताया और बीरबल से कहा कि अब तुम ही इस समस्या का समाधान करो। बीरबल ने  कुछ देर सोचा और फिर जल्लाद को बुलाने के लिए कहा। जल्लाद के आते ही बीरबल ने बच्चे को एक जगह बैठा दिया और कहा, “महाराज आप एक काम कीजिए, इस बच्चे के दो टुकड़े कर दीजिए और दोनों महिलाओं को  एक-एक टुकड़ा दे दीजिए।”

यह सुनते ही उनमें से एक महिला बच्चे के टुकड़े करने की बात मान गई और बोली कि  वह आधे बच्चे के टुकड़े को लेकर चली जाएगी,लेकिन दूसरी महिला बिलख बिलख कर रोने लगी और बोलने लगी- “मुझे बच्चा नहीं चाहिए,मेरे दो टुकड़े कर दो लेकिन बच्चे को मत काटो, यह बच्चा दूसरी महिला को दे दो।”यह देखकर सभी दरबारी मानने लगे कि जो महिला डर की वजह से रो रही है, वहीं दोषी है। लेकिन तभी बीरबल ने कहा कि जो महिला बच्चे के टुकड़े करने के लिए तैयार है, उसे कैद कर लो, वही मुजरिम है। इस बात को सुनकर वह महिला रोने लगी और माफी मांगने लगी। लेकिन बादशाह अकबर ने उसे जेल में डलवा दिया।

 बाद में अकबर ने बीरबल से पूछा- “बीरबल! तुमको कैसे पता चला कि असली मां कौन है?” बीरबल ने मुस्कुराते हुए कहा- “मां सारी मुसीबतों को अपने सर पर ले लेती है लेकिन बच्चे पर आंच नहीं आने देती, और यही हुआ इससे पता चल गया किअसली मां वह है जो खुद के टुकड़े करवाने के लिए तैयार है लेकिन बच्चे के नहीं।”

बीरबल की बात सुनकर बादशाह अकबर एक बार फिर बीरबल की बुद्धि के कायल हो गए।

शिक्षा :- हमें कभी भी किसी दूसरे की चीज पर अपना हक नहीं जताना चाहिए, साथ ही हमेशा सच्चाई की जीत होती है। और समझदारी से काम लेने पर हर समस्या का हल निकल जाता है।

कहानियाँ पसंद आई?शेयर करना ना भूलें 👇👇👇

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

नई कहानियों के बारे में नवीनतम अपडेट! पाएं सीधे अपने इनबॉक्स में